बुधवार, 11 नवंबर 2009

अरमान

फ़िर एक दिन इन आसुओं की सौगात आई थी
इस महकते आँगन में मेरे अरमानो की लाश आई थी
था इंतज़ार उस साथी का जिसने अमृत पास रखी थी
पर मुझे क्या पता वो भी आसुओं की बारिस में लहू -लुहान थी


साँसे टूट रही थी सपने यूँ ही बिखर रहे थे
इंतज़ार में ये आँखें आसुओं की बारिस कर रहे थे
आँगन में मेरे सिर्फ़ खून ही खून तैर रहे थे
फ़िर भी राह में उसकी मेरे अरमान जाग रहे थे


थम गई बारिस बह गए मेरे सारे सपने
आँगन में उसी लगे फ़िर से फूल महकने
पर ना मैं था ना थे मेरे कोई अरमान
इस पेड से फूल न तोड़ना
यंहा कब्र में सो रहा है एक इंसान

6 टिप्‍पणियां:

  1. Ek kachot denewalee rachna...dard bah raha hai..

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढ़े और अपनी बहुमूल्य
    टिप्पणियां करें

    उत्तर देंहटाएं