बुधवार, 30 नवंबर 2011

On a Boating Trip: Ganges


The definition of one of the ancient cities, Varanasi, is incomplete if we don’t talk about the ghats here. Varanasi is known as the city of eighty-four ghats. Every ghat contains a distinctive feature within itself. 

We took a glance of the beauty of river Ganga, and many of its ghats, when we had chance for a boating trip in the river. We started from Assi ghat and ended with Rajghat as our final destinations before returning. 

The holy river Ganga is the pilgrimage for a number of people, who follow Hindu religion. Ganga flows from south to north. We were flowing in the direction. Meanwhile, we saw how the garbage of whole city is thrown in the holy river. Gangas water is not as safe and clean as it was centuries back. 

We also got acquainted with the specialities of some of the ghats during our trips. Mata Anandmai Ashram is situated at Mata Anandmai ghat. Hanuman ghat is the place where Tamil, Telugu, Kannad and Malyalam languages speaking people reside together. A huge Shiv Temple is situated at Kedar ghat.

Satyajit Ray, the noted film maker shot for his films several times during 1955 to 1975 at the ghats, including Ranamehal ghat and Ahilyabai ghat, which had been the venue for many of his films.

The Manmandir ghat became a destination for us when we made a visit to Manmandir observatory. Our last destination Rajghat is a part of the ancient Kashi. The famous Krishnamurty Foundation and Vasant Mahila Mahavidyalaya are situated at Rajghat. Having visited these places, we turned back to Assi ghat. We returned seeing again all the ghats and recalling the facts and figures we had learned the same day only.



सोमवार, 28 नवंबर 2011

In the Heart of Varanasi: Sarnath


It was a pretty cold day when we were roaming in the veins of the heart of the holy city Varanasi. We spent a day in Sarnath.

One of the major attractions of the place, a Buddha temple is situated just a stone throw from the first crossing of Sarnath. Huge gardens, various trees and plants providing elegantly green touch to the campus suddenly catch your eyes.

Apart from this natural beauty, the artistic beauty of the Buddhist pilgrimage is also taken care of, which can be observed suddenly by just entering in the campus. Buddha’s statue provides a unfelt peace to the mind, body and soul.  The walls of the temple are painted with the various portraits of Buddha and his followers whose stories are frequently told in the Buddhist epic. A large range of animals and birds is available in the zoo of the temple.

The aesthetic beauty of the temples lies in the sculptures of Buddha and his four disciples. These statues are installed at the same place where Buddha gave his maiden sermon. There is a tradition to write your wish on small pieces of clothes looking like flags and fasten it with the strings on the walls of that area to make your wish come true.

A huge dome-shaped Buddha stoop is another spot to get your wishes true. People supposed to have their wishes realized if they move seven times round of this stoop. Copper strips are fitted on it to protect the stoop from thunder. We wished to visit there again and move on.

Our next destination at Sarnath was the popular museum. Many Buddha’s statues, swastika, arms and weapons like draggers, swords, axes etc, and other antiques of Buddha’s period are the main contents of the museum. The prime attraction for us was the wheeled shaped stone carved as a huge umbrella. The touch screen computers in every side of museum were telling the technologically advanced of the place and providing the knowledge of the items of the museum in national and international languages.

Another Buddha temple in Sarnath is the live presentation of fresco style of painting. Splendid picture of Buddha is depicted on the wall of the temple. The colourful temple is really soothing to the eyes. The beauty of the lawn in the campus is enhanced in the presence of the fountain here.

Sarnath is always been a fascination place for tourists, whether they are Indian or foreigner. They come here to see the culture, history and of course Buddhism. People like to buy accessories and other decorative items depicting entity of Buddhism.

The roads of Sarnath are well-mentioned and the environment is pollution-free. Many colonies are being constructed in different parts of Sarnath. Now a days, people are seeking a house at a place having a peaceful atmosphere. People of the city are moving in Sarnath to attain a peaceful life far from the cacophony of the main city. We were gratified to make peaceful at least a day of our life, when we were in Sarnath.

शुक्रवार, 18 नवंबर 2011

No joy for Julian

The Swedish view of Julian Assange, who lost his appeal against extradition to face sex allegations on November 2, has changed in a year from the James Bond of the internet to a paranoid chauvinist pig. The man who has been holed up in an English country house instead of allowing himself to be questioned here in Sweden about an alleged rape cuts an increasingly pitiable figure. His attempts to depict Sweden as a banana republic that would ship him on to the United States is another sign of how desperate Assange has become. You can blame Sweden for lots of things -- filthy weather, overrated crime novels, Ikea furniture -- but to claim this country is the Central Intelligence Agency's (CIA's) accomplice, with an extremist law on sex crimes, irritates even his most loyal fans, of whom there are still a few.
It is ironic that Sweden, the country Assange once admired because of laws that shield our freedom of expression and freedom of the press, should have been the place where his sun began to set. In the spring of 2010, when the Collateral Damage video had just been released, he announced that he wanted to move central parts of the WikiLeaks operation to Stockholm.
Sweden  is one of the most wired-up countries in the world and a culture of illegal downloading and net activism is strong here. Perhaps that's why the love affair between Assange and Sweden started so strongly. Even among those who would never use their computers for anything but Google and email, the remains of the anti-Americanism of the 1970s radical left produced a certain admiration for the man.

Assange-the-hero vanished somewhere in that anti-Semitic and anti-feminist slime. Sweden's relatively high measure of sexual equality and consciousness when it comes to gender questions is a matter of national pride. That a dodgy hacker from Australia started knocking the country was not popular.
Last month, two women journalists who started a Twitter campaign over Assange's contemptuous remarks about Swedish women were nominated for the most prestigious prize in Swedish journalism. The "Let's Talk About It" campaign got thousands of people to discuss the grey areas of sexual conduct openly. 
Assange was not the radical hero he had supposed but "a solitary and shabby libertarian who wants to tear down democratic societies".

रविवार, 13 नवंबर 2011

हम किस गली जा रहे हैं.....


भारतीय राजनीति का अंधा युग अब शुरू हो गया लगता है। जिस रफ्तार से नेताओं पर घोटाले, हत्या और यहाँ तक कि बलात्कार के आरोप लग रहे हैं, आम जनता का विश्वास लोकतंत्र से उठता जा रहा है। आज जहाँ भारत की आम जनता भ्रष्टाचार, महंगाई और बेरोजगारी जैसी तमाम तरह की समस्याओं से जूझ रही है, वहीं इस मुल्क के अफसरान और हुक्मरान दोनों ही बस अपनी तिजोरियाँ भरने में लगे हैं। अब तो किसी को याद भी नहीं होगा कि देश के इन कर्णधारों ने आखिरी बार जनहित में कब कोई फैसला लिया था। हाँ, इनके द्वारा अंजाम दी गई तमाम तरह की आपराधिक गतिविधियाँ अक्सर अखबार की सुर्खियों में अपनी जगह बना लेती है।

किसी भी राष्ट्र का भविष्य उसे चलाने वाले लोगों के चरित्र पर निर्भर करता है। भारत निश्चित रूप से इस मामले में सबसे गरीब देश है। आर्थिक विकास के आँकड़ों में हम भले ही दुनिया के अग्रणी देशों में शामिल हों, पर जमीनी हकीकत इससे काफी जुदा है। आज भी इस देश में कई इलाके ऐसे हैं जहाँ लोगों के लिए रोटी, कपड़ा और मकान जैसी मूलभूत सुविधाओं का होना ही सबसे बड़ा ख्वाब है। देश की राजधानी में ही तमाम ऐसी झुग्गियाँ हैं जहाँ आप छोटे बच्चों को भूख से बिलबिलाते देख सकते हैं। ऐसा लगता है कि आलीशान बंगले में रहने वालों के लिए ये सड़क पर घूमने वाले आवारा कुत्तों से ज्यादा कुछ नहीं हैं। काश कि लोग इनके खिलाफ कायदे से खड़े हों, और यकीन मानिए, मैंने भी अभी तक इनके खिलाफ कुछ नहीं किया है।

शुक्रवार, 11 नवंबर 2011

गजल..


कुछ और ही रोशन अब शहर हुआ है।
शायद कोई गरीब फिर बेघर हुआ है।

तुम चीखते चिल्लाते ही रह जाओगे,
हुकूमत पर भी कभी असर हुआ है?

इस सन्नाटे को यारों, गौर से सुनना,
कोई हंगामा यहाँ पर रातभर हुआ है।

चुपचाप गिनती हैं लाशों को सरकारें,
कत्लेआम अखबारों की खबर हुआ है।

इस दिये में तेल से भीगी हुई बाती तो है


पिछले कुछ समय से चल रहे राजनीतिक ड्रामों को देखकर अब ये कहा जा सकता है कि भारतीय राजनेता मानसिक दीवालियेपन का शिकार हो चुके हैं। अब उन्हें जनता की समस्याओं से कोई सरोकार नहीं रहा। उनकी सारी उर्जा यात्राओं, एक-दूसरे पर लांछन लगाने और अपने आप को किसी भी कीमत पर पाक साफ साबित करते रहने में लग रही है। अब तो इन सबके बारे में इतना कुछ सुना जा चुका है, इतना कुछ देखा जा चुका है कि अब कोई घोटाला नहीं चौंकाता, इनकी कोई भी कारस्तानी अब तकलीफ नहीं देती। आम भारतीय जनता कष्ट झेलने की आदती हो गई है।

आजकल हमारे नेता और धर्मगुरू भी यात्राओं पर काफी जोर दे रहे हैं। हाँ, ऐसी यात्राएँ करके ये जनता की तकलीफें और बढ़ा ही देते हैं। जिस दिन इनकी यात्रा किसी शहर से गुजरती है, उस दिल वहाँ ट्रैफिक जाम लग ही जाता है। स्कूल जाते बच्चों और छोटी मोटी मजदूरी करके अपना पेट पालने वालों पर इन महानुभावों की यात्राओं का खासा असर पड़ता है। ये ठीक वैसी ही होती हैं जैसे कभी पुराने समय में राजा-महाराजा अपनी रियासत का चक्कर काटने निकलते रहे होंगे। ये आधुनिक समय के ‘राजाबस जनता की तबाही का मंजर देखते हैं और सोचते हैं कि इनको नोचने की और कितनी गुंजाईश बची है।

आम लोगों की बेबसी जब देखनी हो तो किसी सरकारी अस्पताल के जनरल वार्ड में या फिर रेल के जनरल अपार्टमेंट में आराम से देख सकते हैं। उनके लिए इन दोनों जगहों पर केवल थोड़ी सी जगह मिल जाए तो काफी है। हैरानी तो मुझे तब होती है जब इस हालत में भी इन्हें आमतौर पर खुश देखता हूँ। थोड़ी सी लेटने की भी जगह मिल जाए तो अपने आपको खुशनसीब समझते हैं। जबकि इनका ही खरबों रूपया स्विस बैंको में हमारे नेताओं ने जमा करा रखा है। पाँच साल गरियाने के बाद अगर नेताजी इनके खर का रूख करते हैं तो ये खुद को धन्य मानने लगते हैं। हजारों साल की दासता झेलने के बाद एक आम आदमी देश के निर्माण में अपनी भागीदारी के बारे में सोच भी कैसे सकता है?

रहा सवाल हमारे युवाओं का, तो इसमें भी दो वर्ग एक साथ दिखाई देते हैं। एक वो जिसके सामने सुनहरा भविष्य है और दूसरा वो जो बेरोजगारी के अँधियारे में अपनी उम्मीदों को टटोल रहा है। मेरे खयाल से अगर इस समय किसी का सबसे ज्यादा शोषण हो रहा है तो वो इस देश के युवा ही हैं। इनकी सबसे बड़ी त्रासदी यही होती है कि इन्होंने चमकदार भविष्य के ढेर सारे सपने सँजोए होते हैं। और जब ये सपने टूटते हैं तो कुंठा के रूप में जन्म लेते हैं। हमारे देश के ये नौजवान अगर संकल्प लें कुछ कर गुजरने का, इस देश के भाग्य को बदलने का, तो वो दिन दूर नहीं जब एक अभिनव भारत दुनिया के नक्शे पर होगा, जहाँ कोई शोषित नहीं होगा, जहाँ कोई शोषक नहीं होगा। जैसा कि कभी दुष्यंत कुमार ने कहा था...

इस नदी की धार से ठंडी हवा आती तो है
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है
एक चिंगारी कहीं से ढूँढ लाओ दोस्तो
इस दिये में तेल से भीगी हुई बाती तो है।

गुरुवार, 10 नवंबर 2011

My love is gone.

I am ever alone.
My love is gone.
Apathy and zeal.
Have the same feel.
Moments of enlightening.
Far from frightening.
Only time guides me.
shimmering sky.
Passes by.
Far fetched dreams swallow
into
a river called reality.
I sit down opposite to
my grievances
to share the spoils.
One hope of memory fades fast.
I must complement almighty
for this conviction.
uprooted feet
still moving
on self created tunes
like deserted dunes.
I fear alone
My love is gone
Ablution of soul
The World of mime at whole
Re-birth is about to occur.
Everybody is fallible
But not  always.
Now my heart knows
Why my love is gone?


यूँ ही, अचानक...


कुछ यादें, कुछ चीजें,
आस-पास बिखरी हुईं,
अक्सर दिख जाती हैं,
यूँ ही,
अचानक।
उनका वजूद,
कुछ खास नहीं होता,
लेकिन,
उनसे जुड़ी होती हैं,
कई कहानियाँ,
कई किस्से।

एक लॉकेट,
जो किसी ने दी थी,
बहुत प्यार से,
जो आज वहाँ,
उस खूँटी पर पड़ी है।
या फिर ये टी-शर्ट,
और ये कॉफी मग,
सबके पीछे कई कहानियाँ है,
हर एक चीज में,
दिखता है अक्स,
किसी न किसी का।

और ये कलम,
इसे कैसे भूल सकता हूँ,
किसी ने दी थी,
बड़े प्यार से,
कुछ किस्से, कुछ नगमे,
ये भी तो लिख जाती है,
यूँ ही,
अचानक।

जंजीरें....


वहाँ पेड़ों में जंजीरे बँधी थी,
लोहे की,
काफी मजबूत जंजीरें,
न जाने कौन बाँध गया था,
और क्यों?
मन को कुछ खटक रहा था,
क्यों कोई ऐसा करेगा?
ऐसे तो ये पेड़ उदास से दिखते हैं
चल दिया मैं अपनी राह।
खोया हुआ सा खुद में,
फिर एक रोज जाना हुआ उधर,
जंजीरों में तख्तियाँ लगी थीं अब,
और बच्चे झूल रहे थे,
उन झूलों पर,
गायब हो गयी थीं पेड़ों की उदासी,
और तभी कुछ बूढ़े नजर आये,
जंजीरों में बँधे हुए,
ठीक वैसे ही,
जैसे,
कभी पेड़ों में जंजीरे बँधी थी।